गुड़ियाखेड़ा में 26 वर्षीय MM की स्टूडेंट बनी सरपंच

गांव गुड़ियाखेड़ा से चुनावी मैदान में 6 प्रत्याशी मैदान में थे। चुनाव का मुकाबला तिकोना था।

गुड़ियाखेड़ा में 26 वर्षीय MM की स्टूडेंट बनी सरपंच
X

कहा गांव को नशा मुक्त करना मेरा मुख्य लक्ष्य

सिरसा के गांव गुड़ियाखेड़ा के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ है की सरपंच की कमान गांव की बेटी के हाथ में आई है। बतादें कि, आत्मा राम भाटिया की 26 वर्षीय पुत्री मंजूबाला गांव की सरपंच बनी है। मंजूबाला MM की विद्यार्थी हैं। गांव की सीट रिजर्व्ड होने के बाद भी मंजूबाला चुनावी मैदान में उत्तरी और जीत गई। गांव वालों ने मंजू बाला पर पूरा विश्वास दिखाया।

ग्रामीणों ने गांव की बेटी को आशीर्वाद दिया। गांव गुड़ियाखेड़ा से चुनावी मैदान में 6 प्रत्याशी मैदान में थे। चुनाव का मुकाबला तिकोना था। ऐसे में मंजू बाला 76 वोटों से जीत कर गांव की सरपंच बनी हैं।

मंजू बाला को 898 वोट, कलावती को 822 वोट और मोनिका भाटिया को 771 वोट मिले।

सरपंच बनने के बाद मंजू बाला अपनी जीत का श्रेय ग्रामीणों को दिया, उन्होंने कहा कि ये मेरी जीत नहीं बल्कि पुरे गांव की जीत है, जो उन्होंने एक बेटी को मान-सम्मान बक्शा है। मंजू ने कहा कि ग्रामीणों से मिले प्यार और आशीर्वाद का मैं मान रखूंगी। मेरा लक्ष्य गांव को नशा मुक्त करना और गांव का विकास करना है। गांव की बेटी और महिलाओं के उत्थान लिए काम करूंगी।

ApnaPatrakar

Tags:
Next Story
Share it